आप साहित्य से सम्बंधित कोई भी प्रश्न यहाँ पूछ सकते हैं।।

यहाँ सिर्फ़ इस्लाह के लिए ग़ज़ल पोस्ट करें। यदि इस्लाह की दरकार नहीं है तो ब्लॉग में पोस्ट करें।

टेक्स्ट बॉक्स के नीचे दी गयी किसी एक कैटेगरी को चुनना अनिवार्य है।


चौपाल / चुनिंदा अशआर

नौए इंसां को तू कुछ सच की समाअत दे ख़ुदा
आदमी  में  कुछ  तो  इंसानी  शराफ़त  दे ख़ुदा

ढो रहे  हैं  जो  तसव्वुर में ख़ुद अपनी लाश को
ज़हन  में  उनके  तू  बच्चों  की मलाहत दे ख़ुदा

बेअमां    बीमार    बेआराम    हैं   जो   दहर   में
तू   उन्हें   वज्हे   मसर्रत   की  इनायत  दे  ख़ुदा

ज़िंदगी   में   दूसरों   के   वास्ते  हो  ख़ुद  नज़ीर
हर  जवां  को  वुसअतों की क़ाबिलियत दे ख़ुदा

जो मेरी उज्रत के दम पर साहिब ए आलम बने
तू   उन्हें   मेरे   लिए   फ़िक्रे   अयादत  दे  ख़ुदा

माइले  पैकर  रहा  करते  हैं  जो  नाहक़  उन्हें
करके  बा  रस्ता  रवा   मानूस  चाहत  दे  ख़ुदा

तू   नबर्दा   है   न   पूछूँगा    सबब   ताख़ीर  की
बस  फसीले   शब  गिरा  देने की कुव्वत दे ख़ुदा

जिंदगी  के  मरहलों  ने  दी  अज़ीयत  आज तक
हाज़ते   जश्ने   तरब  को  अब  नसीहत  दे  ख़ुदा

 

@Akhtar Ki desi Sir

@Naaz Pratapgarhi Sb

You need to be a member of Sukhanvar International to add comments!

Join Sukhanvar International

Email me when people reply –

Replies

  • वाह वाह बहुत खूब
  • बहुत उम्दा ग़ज़ल कही सर आपने।
  • बहुत उम्दा।
This reply was deleted.

प्रयागराज - लखनऊ - कानपुर - नोएडा - नई दिल्ली - चंदौसी - मेरठ - साँईखेड़ा - इंदौर - भोपाल - जयपुर - आगरा