कृपया स्माइली का प्रयोग न करें

दैनिक आयोजनों की पोस्ट के लिए आपको 7 दिन मिलते हैं यानी जब तक उस दिन के लिए अगला प्रोग्राम न दे दिया तब तक। इस तरह आप प्रतिदिन हर प्रोग्राम की रचना पोस्ट कर सकते हैं



बुधवार-हिंदी रचना

All Discussions (70)

Sort by

ग़ज़ल

एक हिंदी ग़ज़ल प्रस्तुत करने का साहस कर रही हूँ
जो कमियाँ हों उन से अवगत कराने की कृपा अवश्य करें
धन्यवाद !

ग़ज़ल
______________

हम कर्तव्यों को पूर्ण करें, माँगें केवल अधिकार नहीं
मानव से मानव प्रेम करे,संबंधों का…

Read more…
1 Reply · Reply by SD TIWARI Oct 2

हिन्दी कार्यक्रम पर रचना

व्यथा- कथा
**********
ख़ूब मनाएं जन्मदिवस पर सुनें एक फ़रियाद !
गाँधी - लाल बहादुर की सीखों को कर लें याद !
सत्य अहिंसा भाईचारा था जिनका संदेश !
क्यों उनके सपनों के भारत की हिलती बुनियाद…

Read more…
1 Reply · Reply by Kewal Krishan Pathak Oct 2

दोहे

सत्य अहिंसा का दिया , जनमानस को ज्ञान।

बापू गांधी नाम है , भारत देश की शान ।।

-------------------------------------------------…

Read more…
0 Replies

Aek Doha

प्रेम समर्पण त्याग के, सबसे सुन्दर नाम।

बरसाने की राधिका, गोकुल के घनश्याम।

Read more…
0 Replies

पावस के गीत

*पावस के गीत*

बारिशों के दिन सुहाने आ गये अब
बात मैं करती रही.. वो हँस रहे हैं
ढक लिये हैं बदलियों की धुंध सूरज
और मैं उकता रही.. वो हँस रहे हैं ।

दिल्लगी दिल पर लगा बैठी तभी तो
नासमझ सी बात अब कहने लगी हूँ…

Read more…
0 Replies

तामरस छंद

तामरस छंद

प्रिय प्रभु से चुपके मिल आयी ,
सखि संग सौतन डाह निभायी ।

चितवन चंचल और हुई है,
मृगनयनी चितचोर हुई है ।
बतरस के लहजे सब चोखे ,
सब सखियों को देकर धोखे ।
कब वृषभानु लली मिल आयी,
सखि सब रूठ गयी…

Read more…
2 Replies · Reply by Geeta vishwakarma Aug 14

प्रयागराज - लखनऊ - कानपुर - नोएडा - नई दिल्ली - चंदौसी - मेरठ - साँईखेड़ा - इंदौर - भोपाल - जयपुर - आगरा