मेन्यू के लिए ऊपर मैरून स्ट्रिप को टैप करें

अपनी सभी पोस्ट्स देखने के लिए अपने नाम पर टैप करें। किसी अन्य सदस्य की पोस्ट्स देखने के लिए Members पर टैप कर के उस सदस्य के नाम पर टैप करें।

कृपया स्माइली का प्रयोग न करें

दैनिक आयोजनों की पोस्ट के लिए आपको 7 दिन मिलते हैं यानी जब तक उस दिन के लिए अगला प्रोग्राम न दे दिया तब तक। इस तरह आप प्रतिदिन हर प्रोग्राम की रचना पोस्ट कर सकते हैं



कहानी

All Posts (29)

एक बेटा ऐसा भी

 

"एक बेटा ऐसा भी"

• "माँ, मुझे कुछ महीने के लिये विदेश जाना पड़ रहा है। तेरे रहने का इन्तजाम मैंने करा दिया है।" तक़रीबन ३२ साल के, अविवाहित डॉक्टर सुदीप ने देर रात…

Read more…

मेरे_पापा_की_औकात

मेरे_पापा_की_औकात
पाँच दिन की छूट्टियाँ बिता कर जब ससुराल पहुँची तो पति घर के सामने स्वागत में खड़े थे।
अंदर प्रवेश किया तो छोटे से…

Read more…

पिता का पुत्र के नाम पत्र

लखनऊ के एक उच्चवर्गीय बूढ़े पिता ने अपने पुत्रों के नाम एक चिट्ठी लिखकर खुद को गोली मार ली। चिट्टी क्यों लिखी और क्या लिखा। यह जानने से पहले…

Read more…

कबाड़


दिवाकर बाबू घर के दोमंजिलें पर बने अपने कमरे में एकदम गुमसुम बैठे थे। चंद्रकला का जब से निधन हुआ है जैसे वह किसी बीहड़ जंगल में भटक रहे हों। जब तक वह जीवित थी कितना ख्याल रखती थी। समय पर दवाई...समय पर…

Read more…

माँ बीमार है

माँ बीमार है
*********
हम दोनों एक धूप के तले थे, जैसे दो जन एक ही छाया में होते हैं। मुझे लगा अप्रैल की इस धूप ने हमें अपनी किरणों…

Read more…

कहानी

ज़िंदादिल....

उस्ताद प्रोफेसर..मुजतबा हुसैन,
महफ़िलों के ग़ुरूर का बाइस,अदब की दुनियां के नामी गरामी शायर, oxford यूनिवर्सिटी में ज़बान के प्रोफ़ेसर,( professor de lingua) आगरा के बाशिंदे थे,इतने ख़ूबसूरत के जहां से भी गुज़र जाते थे हर…

Read more…

गिर गया चाँद

गिर गया चाँद
***********
रधिया ने भी वैसे प्यार ही किया था। प्यार के पोखर में भी दलदल होती है यह तब समझ आया जब पेट से हुई और जगिया को बताया। थप्पड़ सा जवाब मिला, " चल बे रंडी कहीं की!"
यह तो मीनाताई ने दुनिया देखी थी जो रंडी शब्द…

Read more…

कहानी

कहानी- अनन्त आकाश


मेरे देखते ही बना था ये घोंसला, मेरे आँगन में आम के पेड पर- चिड़िया कितनी खुश रहती थी और चिड़ा तो हर वक्त जैसे उस पर जां-निसार हुआ जाता था। कितना प्यार था दोनो मे! जब भी वो इकट्ठे बैठते, मैं उन को गौर से देखती और उनकी…
Read more…


लगा मेरे बाएँ पैर की अंगुलियों पर ज़ोर से हथौड़ा मारा है किसी ने। मेरी चीख निकल गयी। मन में चल रहा स्वप्निल दृश्य झटके से टूट गया। कोई आदमी होता तो सीधा धक्का मारता। एक अधेड़ औरत ने अपने बोरी में लिपटा पत्थर…

Read more…

कल 90 वर्षीय शादीलाल जी वॉयलेट लाइन मेट्रो में अकेले सफर करते मिले। सीनियर सिटीजन की सीट पर उनके बगल में बैठने के बाद मुझे लगा वो कुछ बेचैन हैं।
बार बार वे मुझसे पूछते ये…

Read more…

गुंजाइश

गुंजाइश
******
ग्रॉसवेनर हाउस का अपना एक राजसिक इतिहास है। ग्रोसवेनर्स फॅमिली यानि ड्यूकस् ऑफ़ वेस्टमिन्स्टर का निवास था कभी। इंग्लॅण्ड के राजे रानियों की कई कहानियों का गवाह है, ग्रॉसवेनर हाउस। वैसे भी पार्क स्ट्रीट के ऊपर से…

Read more…

प्रयागराज - लखनऊ - कानपुर - नोएडा - नई दिल्ली - चंदौसी - मेरठ - साँईखेड़ा - इंदौर - भोपाल - जयपुर - आगरा